NFT Full Form in Hindi | NFT क्या है, कैसे काम करता है?

4.1/5 - (32 votes)

हेलो दोस्तों आज हम जानेगे जैसा की आपको पता है NFT Full Form in Hindi, NFT Kya Hai, NFT in Hindi आप सभी ने NFT के बारे में सुना होगा हम इसी विषय पर चर्चा करने वाले है। की असल में NFT के बारे में जो आज भारत में भी काफी चर्चा का विषय बन रहा है।
NFT meaning in hindi यह एक डिजिटल आइटम होता है जो ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित होता है। जबकि क्रिप्टोकरेंसी में ट्रांजैक्शन की एक एक इकाई यानी बिटकॉइन या एथेर जैसी मुद्रा मानी जाती है जिसकी प्रतिलिपि कितनी भी हो सकती है।

चलिए हम समझते है की आखिर इसका NFT क्या है, कैसे काम करता है, NFT की विशेषताएं हम इन सभी विषय के बारे में आज चर्चा करने जा रहे हम निचे इसी के बारे में जानने वाले है।

NFT Full Form in Hindi
                                                               NFT Full Form in Hindi

NFT Full Form in Hindi | NFT का फुल फॉर्म क्या है?

NFT का हिंदी में पूरा रूप “नॉन-फंगिबल टोकन” होता है।

N – Non

F – Fungible

T – Token

NFT का मतलब क्या है?

NFT का पूर्ण रूप है “Non-Fungible Token” होता है। , NFT अद्वितीय होते हैं और प्रत्येक एक अद्वितीय होता है। यह किसी विशेष संपत्ति, कंटेंट या कला को प्रतिष्ठित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह आइटम डिजिटल हो सकता है, जैसे कि वीडियो, म्यूजिक, फोटो, आर्टवर्क, गेम आदि, और इसे एक्सेस करने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग करता है। NFT आइटम का मालिकाना हक और प्रमाणित होता है, और उसकी प्रोपर्टी को स्थायी रूप से संग्रहीत करता है।

NFT का हिंदी में अर्थ क्या होता है?

NFT का हिंदी में अर्थ “गैर-बदले जाने योग्य टोकन” होता है। यह एक ऐसा डिजिटल आइटम होता है जिसे ब्लॉकचेन तकनीक के माध्यम से प्रमाणित किया जाता है।

NFT क्या होता है?

NFT, यानी “नॉन-फंगिबल टोकन“, एक डिजिटल प्रोपर्टी होता है जिसे ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित किया जाता है। इसके माध्यम से किसी डिजिटल आइटम की संपत्ति को नकदीकरण किया जाता है और उसका मालिकाना हक सत्यापित किया जाता है।

NFT के माध्यम से आइटम की मान्यता, अस्थायीता और मालिकी तथा खरीद-बिक्री का इंटरनेटीकरण होता है।एनएफटी (नॉन-फंजिबल टोकन) एक क्रिप्टोकरंसी कॉन्सेप्ट है, जिस्म डिजिटल एसेट्स (डिजिटल प्रॉपर्टी) को ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से रिप्रेजेंट किया जाता है।

NFT का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है?

NFT (Non-Fungible Token) का उपयोग डिजिटल संपत्ति की अद्वितीयता को प्रतिष्ठित करने, स्वामित्व को सत्यापित करने और व्यापार करने के लिए किया जाता है।

  1. Art: NFT, Digital Art के अद्यतन और बिक्री के लिए उपयोग होता है। कलाकार अपने कला को NFT के रूप में टोकनाइज़ कर सकते हैं और उन्हें कला प्रेमियों को बेच सकते हैं। NFT के माध्यम से कलाकार अपनी कला की Exclusivity और Ownership को सत्यापित कर सकते हैं और कॉपीराइट की सुरक्षा कर सकते हैं।
  2. Musical: NFT, Musical Compositions को टोकनाइज़ करने और बेचने के लिए उपयोग होता है। कलाकार अपने एल्बम या विशेष गाने NFT के रूप में प्रकाशित कर सकते हैं और इन NFT को संगीत प्रेमियों को बेच सकते हैं। इससे कलाकारों को अधिक नियंत्रण और आय प्राप्त होती है।
  3. Digital Collection: NFTs Digital Collection आइटम्स की Reputation करने के लिए इस्तेमाल होते हैं। ये मुद्राएँ, कार्ड, खेल की आइटम्स या वीडियो गेम के वस्त्र जैसे आइटम्स हो सकते हैं।

NFT का उपयोग किस तरह से किया जा सकता है?

NFT का उपयोग कही तरीकों से किया जा सकता है। यहाँ कुछ ऐसे तरीके हमने बताए है जिनको देख कर आप अच्छे से समझ सकते है।

  1. डिजिटल कला: कलाकार अपनी डिजिटल कला को NFT के रूप में टोकनाइज़ करके उसे विक्रय कर सकते हैं।
  2. संगीत: म्यूजिकियन अपने ऑडियो ट्रैक्स, एल्बम, रीमिक्स आदि को NFT के रूप में टोकनाइज़ करके उन्हें विक्रय कर सकते हैं।
  3. वीडियो गेम्स: NFTs को वीडियो गेम्स के भीतर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे खिलाड़ी वीडियो गेम्स के भीतर वस्त्र, गतिशील आइटम, अद्यतन आइटम, और अन्य डिजिटल संपत्तियों को खरीद सकते हैं
  4. Financial Tools: NFTs अब Financial Tools के भीतर भी उपयोग हो रहे हैं। वित्तीय NFTs सभी प्रकार के डिजिटल प्रतिष्ठानों को प्रदान कर सकते हैं।
  5. Business Use: NFTs को Business Use के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। कंपनियों और व्यापारियों के बिच भी इसे Use किया जाता है।

 

NFT का इस्तेमाल करने के लिए कौन-कौन से विभाग इस्तेमाल करते हैं?

NFT का उपयोग करने के लिए कही विभाग और सेक्टर इस्तेमाल करते हैं। यहाँ पर हमने कुछ ऐसे विभाग और सेक्टर बताए है

  • Organizational Sector – कुछ संगठन और कम्पनियाँ भी NFTs का उपयोग कर रही हैं ताकि वे अपनी डिजिटल संपत्ति को टोकनाइज़ करके विक्रय कर सकें या अपने उपयोगकर्ताओं के लिए आकर्षक आइटम्स को ऑफ़र कर सकें।
  • Arts & Entertainment Sector – NFTs ने कला, फ़ोटोग्राफी, वीडियो, फ़िल्में, संगीत, वीडियो गेम्स और अन्य मनोरंजन के क्षेत्र में बड़ा परिवर्तन लाया है। कलाकार, फ़ोटोग्राफर, संगीतकार, फिल्म निर्माता और खेल डेवलपर नॉन-फंजिबल टोकन्स के माध्यम से अपनी संपत्ति को बेच सकते हैं
  • Video Game Industry – गेम उद्योग में भी व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जा रहा है। कुछ खेल डेवलपर नॉन-फंजिबल टोकन्स का उपयोग करके खिलाड़ियों को खेल की वस्त्र, उपकरण, स्किन, कार्यालयी सामग्री और अन्य आइटम्स की खरीदारी करने की सुविधा प्रदान करते हैं। इन NFTs को खिलाड़ियों के बीच विक्रय किया जा सकता है
  • Financial Instruments – NFTs जिनमें टोकनाइज़ड Property, अपग्रेड करने योग्य पैसा , स्टेबलकॉइन्स, Digital Currency और अन्य Financial Instruments शामिल हो सकते हैं।

इन्हे भी पढ़े?

NFT की विशेषताएं क्या हैं?

NFT कि विशेषताए के बारे में बात करे तोह इसमें ऐसी कही तरह कि विशेषताए है जिनको पढ़कर आप अच्छे से समझ सकते है कि आप यह सभी काम किस तरीके से कर सकते है तोह चलिए शरू करते है और समझते है इसकी विशेषताए के बारे में।

  • Uniqueness – NFTs Uniqu होते हैं, यानी प्रत्येक NFT एक Uniqu वस्तु होती है जिसका नकली नहीं बनाया जा सकता है।
  • Possession – NFTs वस्तु के Possession को ऑन-चेन ब्लॉकचेन ट्रांजेक्शन के माध्यम से प्रमाणित करते हैं।
  • Inter Change Ability – NFTs Interchange होते हैं, यानी उन्हें खरीदा, बेचा और व्यापार किया जा सकता है।
  • Transparency – NFTs के लेजर कार्यक्रम ब्लॉकचेन पर स्थापित होते हैं, जो उपयोगकर्ताओं को सत्यापन की गारंटी देता है
  • Attestation and Description – NFTs एक डिजिटल जीवनचर के रूप में Attestation and Description करते हैं।
  • Natural Abnormality – NFTs एक विशेषता के रूप में प्राकृतिक असाधारणता भी दर्शाते हैं।
  • Authenticity and Verification – NFTs ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के उपयोग से Authenticity and Verification की गारंटी देते हैं।

NFT कैसे बनाया जाता है?

NFT बनाने के लिए आपको हमारे द्वारा बताए गए स्टेप को फॉलो करके आसानी से बना सकते है जो कि इस प्रकार है 

  1.  एक ब्लॉकचेन प्लेटफ़ॉर्म: सबसे पहले, आपको एक ब्लॉकचेन प्लेटफ़ॉर्म का चयन करना होगा जहां आप अपना NFT बना सकते हैं। इन प्लेटफ़ॉर्मों में Ethereum, Binance Smart Chain, Flow, Solana, और अन्य शामिल हैं।

  2. अपनी कंटेंट का चयन करें: एक बार जब आप ब्लॉकचेन प्लेटफ़ॉर्म का चयन कर लेते हैं, तो आपको अपनी NFT के लिए कंटेंट का चयन करना होगा।
  3. मेटाडेटा और विशेषताओं का निर्धारण करें: अपनी NFT के लिए मेटाडेटा और विशेषताओं को निर्धारित करें। इसमें शामिल हो सकते हैं नाम, वर्णन, लाइसेंस, तारीख, ट्रेडिंग विवरण, ब्रांडिंग आदि।

  4. ब्लॉकचेन प्लेटफ़ॉर्म डॉक्यूमेंटेशन: आप अपने चयनित ब्लॉकचेन प्लेटफ़ॉर्म के डॉक्यूमेंटेशन को जांच सकते हैं जहां NFT को बनाने की प्रक्रिया और समर्थित टूल्स और टेक्नोलॉजी विवरणित होंगे।

  5. ब्लॉकचेन प्लेटफ़ॉर्म विकासकों से संपर्क करें: आप अपने चयनित ब्लॉकचेन प्लेटफ़ॉर्म के विकासकों और समुदाय से संपर्क कर सकते हैं ताकि आपको निर्माण प्रक्रिया के बारे में अधिक जानकारी मिल सके।

  6. ऑनलाइन ट्यूटोरियल और संसाधन: इंटरनेट पर आपको NFT निर्माण के बारे में विभिन्न ऑनलाइन ट्यूटोरियल, वीडियो, ब्लॉग पोस्ट, और संसाधन मिलेंगे।

NFT की कीमत कैसे तय होती है?

NFT कि कीमत तय करने के लिए ऐसे कही तरीके है जिनसे आप एक अंदाजा लगा सकते है और पता कर सकत है कि आप भी NFT कि कीमत किस तरीके से लगा सकते है 

  • NFT की कीमत की एक मुख्य चालक फैक्टर डेमांड और उसकी वल्यु पर है। यदि एक NFT बहुत ज्यादा लोगो के लिए पसंदीदा है और उसकी मांग अधिक है, तो उसकी कीमत बढ़ सकती है।
  • किसी निश्चित NFT की प्रमुखता उसकी कीमत को प्रभावित कर सकती है। अगर किसी NFT का ऐतिहासिक Importance है, जैसे कि Famous Art, वीडियो या खेल, तो उसकी कीमत बढ़ सकती है।
  • यदि किसी NFT की संख्या कम होती है, तो उसकी कीमत अधिक हो सकती है। ऐसा इसलिए होता है कि सीमित NFT कोने और Commercial Bases पर अनमोल हो सकते हैं, और उन्हें मांग के लिए अधिक इंटरेस्ट होती है।

NFT की सुरक्षा कैसी होती है?

NFT की सुरक्षा ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर आधारित होती है। NFT ब्लॉकचेन पर डेसेंट्रलाइज्ड होते हैं, जिसका मतलब है कि उन्हें किसी एक सेंट्रल एथॉरिटी द्वारा नियंत्रित नहीं किया जा सकता है। इसका परिणाम होता है कि NFT की सुरक्षा बहुत मजबूत होती है, क्योंकि इसे हैक या संशोधित करना कठिन होता है।

ब्लॉकचेन प्रोटोकॉल्स में उपयोग होने वाली क्रिप्टोग्राफी नेटवर्क को NFTs की सुरक्षा में Important भूमिका निभाती है।

NFT के फायदे क्या हैं?

NFT (Non-Fungible Token) के कई फायदे हैं। इन्ही के बारे में हम निचे समझते है कि NFT के क्या-क्या फायदे है।

  • एक NFT एक अलग-थलग विशेषता और मान्यता रखता है। इसे अनुपम और अनोखा बनाने के कारण, यह कला, म्यूजिक, वीडियो गेम्स और अन्य क्रिएटिव आउटपुट के लिए खास रूप से उपयोगी होता है।
  • NFT एक मालिकाना हक प्रदान करता है। धारिक NFT का मालिक उसे खरीदने, बेचने, व्यापार करने और उसका स्वामित्व रखने का अधिकार रखता है।
  • यह क्रिएटर्स और कलाकारों को उनके निर्मित आइटम पर नियंत्रण और मूल्यांकन की सुविधा प्रदान करता है।
  • NFT कला, गेम आइटम्स और अन्य क्रिएटिव आउटपुट के लिए नए विपणन और कमाई के अवसर प्रदान करता है।
  • क्रिएटर्स अपने NFT को विक्रय करके रोयल्टी कमा सकते हैं। 

NFT के नुकसान क्या हैं?

NFT के अगर हम नुकसान के बारे में बात करे तोह इसके भी कही तरह से NFT के नुकसान है जिनको हमने निचे बताया है आप इसे पढ़कर समझ सकते है। 

NFT बाजार उतार चढाव रहते है और कीमतों में बदलाव हो सकता है। NFT की कीमत में गिरावट हो सकती है। इसलिए, NFT की कीमत उतार-चढ़ाव कर सकती है और निवेशकों को मूल्य कमी का सामना करना पड़ सकता है।

NFT आइटमों की नकली या पायरेटेड कॉपी बनाकर NFT बाजार में बेची जा सकती हैं। ऐसे मामलों में, खरीदारों का नुकसान हो सकता है।  

NFT कला या अन्य आइटमों की नकली या पायरेटेड कॉपी बनाकर NFT बाजार में बेची जा सकती हैं। ऐसे मामलों में, खरीदारों का नुकसान हो सकता है। 

NFT का इस्तेमाल किस क्षेत्र में होता है?

NFT (Non-Fungible Token) का उपयोग कई क्षेत्रों में होता है। जैसे – 

  • NFT कला में एक महत्वपूर्ण आयाम प्राप्त कर रहा है। कलाकार अपने दिग्गज, डिजिटल या रीयल वर्क को NFT के रूप में बदल सकते हैं
  • NFT गेमिंग उद्योग में भी अच्छी गति से विकसित हो रहा है। गेम डेवलपर्स अद्वितीय और संग्रहीत आइटम जैसे कि कारक, स्किन्स, आदि को NFT के रूप में जनरेट कर सकते हैं।
  • खिलाड़ी इन NFT को खरीदकर अपने गेम अनुभव को व्यक्तिगत बना सकते हैं और इन्हें विक्रय करके कमाई कर सकते हैं।
  • NFT मनोरंजन और मीडिया क्षेत्र में भी उपयोग होता है।

NFT और क्रिप्टोकरेंसी में क्या अंतर है?

NFT (Non-Fungible Token) Cryptocurrency
क्रिप्टोकरेंसी InterChangeAbility होती है, अर्थात् एक क्रिप्टोकरेंसी इकट्ठा की जा सकती है, व्यापारिक लेनदेन में उपयोग की जा सकती है और अन्य क्रिप्टोकरेंसी के साथ बदली जा सकती है। NFT अद्वितीय होते हैं और उन्हें विनिमय नहीं किया जा सकता है।
क्रिप्टोकरेंसी फंगिबल होती है, अर्थात् एक इकाई की क्रिप्टोकरेंसी को दूसरी इकाई के साथ बदला जा सकता है, और उन्हें समान मान्यता और मूल्य मिलता है। NFTs अद्वितीय होते हैं और प्रत्येक NFT एक अलग और विशिष्ट वस्तु को प्रतिष्ठित करता है।

क्रिप्टोकरेंसी व्यापारिक लेनदेन में उपयोग की जाती है और उसे मूल्य संचयन और मानवीय वस्तुओं की विनिमय माध्यम के रूप में देखा जाता है। NFTs विशेषताओं, आर्ट, कला, डिजिटल संपत्ति, गेम आइटम्स, वीडियो, म्यूजिक, और भी है।
क्रिप्टोकरेंसी एक मान्यता प्राप्त करने के माध्यम के रूप में देखी जाती है जिसे लोग भुगतान के लिए, लेन-देन के लिए और विभिन्न उद्योगों में उपयोग कर सकते हैं। NFTs विशेष संपत्ति के मालिकाना हक़ और मान्यता को साबित करने के लिए उपयोग किए जाते हैं।
क्रिप्टोकरेंसी को ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी द्वारा प्रामाणिक किया जाता है जिससे संचालनकर्ताओं की पहचान पुष्टि होती है और प्रत्येक लेनदेन को सत्यापित किया जा सकता है। NFTs भी ब्लॉकचेन पर प्रामाणिकता के लिए उपयोग करते हैं, लेकिन उनका उपयोग संपत्ति के स्वामित्व और प्रकाशितकर्ता की पहचान की पुष्टि करने के लिए होता है।
क्रिप्टोकरेंसी का मुख्य उद्देश्य वित्तीय लेन-देन को सुगम बनाना है। NFTs का मुख्य उद्देश्य डिजिटल संपत्ति होती है।

 

NFT कैसे खरीदा और बेचा जा सकता है?

NFT को वैसे कही तरीको से ख़रीदा और बेचा जाता है उन्ही तरिको के बारे में हम बात करने वाले है आपको कुछ तरीको के बारे में हम बात करने वाले है जिससे आप एक अंदाजा लगा सकते है जिससे आप NFT खरीद व बेच सकते है जो इस प्रकार है। 

  1. NFT मार्केटप्लेस – वैब और मोबाइल ऐप्स पर NFT मार्केटप्लेस मौजूद हैं जहां आप NFT खरीदने और बेचने के लिए कोई भी आइटम्स के लिए खोज कर सकते हैं।
  2. Personal Selling – NFT की खरीद और Personal Sell ढंग से हो सकती है। आप एक NFT के लिए सीधे किसी व्यक्ति या कला निर्माता से संपर्क कर सकते हैं और नीलामी, ऑफर, या खरीददारी के माध्यम से Personal Sell कर सकते हैं। इसमें आपको खुद की सुरक्षा और सौदे की पूरी जिम्मेदारी होती है।
  3. नीलामी – कुछ NFTs को ऑक्शन हाउसेज जैसे वेबसाइटों या प्लेटफ़ॉर्मों पर नीलामी में बेचा जाता है। इन ऑक्शनों में लोग अपनी प्रादेशिक बोली लगा सकते हैं और सबसे उच्च बोली देने वाले इसे खरीद या बेच सकते है। 
  4. NFT मार्केटप्लेस वेबसाइट्स – OpenSea (https://opensea.io/), Rarible (https://rarible.com/), SuperRare (https://superrare.com/), NBA Top Shot (https://nbatopshot.com/), और अन्य मार्केटप्लेस वेबसाइट्स पर विस्तृत जानकारी और प्रक्रिया उपलब्ध होती है। आप इन सभी वेबसाइट पर जाकर इन पर अपना अकाउंट बनाकर खरीद व बेच सकते है। 
  5. न्यूज़लेटर और वेबसाइट्स: आप NFT और ब्लॉकचेन दुनिया के विषय में जानकारी के लिए क्रिप्टो न्यूज़लेटर और वेबसाइट्स का उपयोग कर सकते हैं। CoinDesk (https://www.coindesk.com/), Cointelegraph (https://cointelegraph.com/), Decrypt (https://decrypt.co/), CoinMarketCap (https://coinmarketcap.com/) आपको इनमे NFT और खरीदारी के बारे में जानकारी मिल जाएगी।

निष्कर्ष 

आप समझ चुके होंगे कि ”NFT का मतलब क्या है? NFT Full Form in Hindi” के बारे में हमने पूरी तरीके से समझाया है कि आप किस तरीके से NFT के बारे में हमने विस्तार से चर्चा कि है जिससे आप आसानी से समझ सकते है।

इसके आलावा भी आप को भी प्रश्न हो तो आप हमें पूछ सकते है साथ ही आप ही  मारे आर्टिकल कैसा लगा है आप हमें कमेंट करके जरुर बताए जिससे हम आपके लिए अच्छे से अच्छे ऐसे इनफार्मेशन रिलेटेड जानकारी मिलती रहेगी। 

Leave a Comment